Skip to main content

How To Identify Mint Plant | Health Benefits Of Pudina

 

How To Identify Mint Plant | Health Benefits Of Pudina 




About


1.             Pudina is most popular kitchen herb of India.

2.             Scientific name of Pudina is Mentha Spicata.

3.             Pudina belongs to mint family of herbs.

4.             In india Pudina is used to prepare chutneys,raita and Biryanis.


Recognisation of Pudina Plant


1.             Pudina Plant spreads horizontally.

2.             Pudina can be found grown in moist soil.

3.             Pudina has fragrant and toothed leaves.

4.             Pudina has tiny,purple,pink and white flowers.

5.             The colour of Pudina is bright green.

6.             If its taste is strongly minty it can be peppermint and if it has lighter flavour it is spearmint.


Health benefits of Pudina


1.             Pudina helps to prevent indigestion.

2.             Pudina juice can be used to get relieve from headache.

3.             Pudina canbe used as skin cleanser.

4.             Pudina can improve our oral hygiene and dental health.

5.             Pudina canbe used to treat common cold.

6.             Pudina can regulate blood sugar Level.

7.             Pudina can treat diarrhoea.

 

 

पुदीने के पौधे की पहचान कैसे करें | पुदीना के स्वास्थ्य लाभ


सामान्य जानकारी


1. पुदीना भारत की सबसे लोकप्रिय रसोई जड़ी बूटी है।

2. पुदीना का वैज्ञानिक नाम मेंथा स्पिकाटा है।

3. पुदीना पुदीना जड़ी-बूटियों के परिवार से संबंधित है।

4. भारत में पुदीना का उपयोग चटनी, रायता और बिरयानी बनाने के लिए किया जाता है।


पुदीना के पौधे कि पहचान


1. पुदीना का पौधा क्षैतिज रूप से फैला होता है।

2. पुदीना को नम मिट्टी में उगाया जा सकता है।

3. पुदीना में सुगंधित और दांतेदार पत्ते होते हैं।

4. पुदीना में छोटे, बैंगनी, गुलाबी और सफेद फूल होते हैं।

5. पुदीना का रंग चमकीला हरा होता है।

6. अगर इसका स्वाद बहुत तीखा है तो यह पिपरमिंट  हो सकता है और अगर इसका स्वाद हल्का है तो यह पुदीना है।


पुदीना के स्वास्थ्य लाभ


1. पुदीना अपच को रोकने में मदद करता है।

2. सिर दर्द से राहत पाने के लिए पुदीने के रस का प्रयोग किया जा सकता है।

3. पुदीना को स्किन क्लींजर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

4. पुदीना हमारे मौखिक स्वच्छता और दंत स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है।

5. पुदीना से आम सर्दी का इलाज किया जा सकता है।

6. पुदीना रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित कर सकता है।

7. पुदीना दस्त का इलाज कर सकता है।


अन्य पढ़ें

 

Comments

Popular posts from this blog

योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा

  योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा  योगश्चित्तवृत्तिनिरोध: !!  चित कि वृत्तियों  को रोक लेना ही योग है !चित का मतलब है मन ! मन ही इच्छाओं का केंद्र है ! जब मन को अपने बस में कर लिया तो सब कुछ संभव  हो गया ! अपनी इच्छाओं को  वस में कर लेना ही योग है ! ठहरे हुए पानी में अपना प्रतिबिम्ब देखा जा सकता है पर अगर पानी में तरंगे उठती रहें तो प्रतिबिम्ब देखना मुश्किल होगा ! अपने आप को जान लेना ही योग है और   तभी  संभव होगा जब में  ठहराव होगा होगा ! आज की यह मुद्रा   ज्ञान मुद्रा  हाथों कि मुद्राओं से कई तरह की बीमारियों का इलाज  किया जा सकता है ! याद रखें  की जब कोइ भी मुद्रा  आप कर रहे हों उस में उपयोग में ना होने बाली उंगलियों को सीधा रखें  ! विधी        इस मुद्रा में अपने अंगूठे के अग्रभाग को अपनी तर्जनी उंगली के अग्रभाग से मिलाकर रखें  ! शेष तीनो उंगलियों को सीधा रखें ! हाथों  को अपने घुटनों  पर रखें  और साथ में अपनी हथेलियों को आकाश की तरफ खोल दें ! महत्त्व       अंगूठा  अग्नि तत्व का और तर्जनी उंगली वायु  तत्व का प्रतीक है !  ज्योतिष के अनुसार अंगूठा मंगल ग्रह  और तर्जनी उंगली

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan Name : Naag Chhatri Botanical Name : Trillium Govanianum Identification   : Approx 10cm purple red stem carry three green leaves and flower of deep red and green colour.  Uses : Anticancerous,In sexual problems, regulation of menstrual cycle and stomach related problems.    नाम : नाग छतरी वानस्पतिक नाम : ट्रिलियम गोवैनियनम पहचान : लगभग 15 सेंमी का  लाल बैंगनी और पतला सा तना, तने के ऊपर तीन हरे पत्ते और लाल तथा हरे रंग का फूल | प्रयोग : कैंसर,सेक्स समस्याएं,मासिक चक्र मेंं नियंत्रण, पेट  कि  समस्या मेें | अन्य पढ़ें    सबसे महंगी कॉफी  जट्रोफा के फायदे  रतनजोत  फायदे  पथरी का रामवाण ईलाज़ 

How to make Satvik Roti || Recipe to make Healthy Roti || सात्विक रोटी बनाने का तरीका

सात्विक रोटी बनाने का तरीका ||हैलदी रोटी बनाने कि रैसिपी दोस्तो आज हम में से हर कोई किसी न किसी बिमारी से पीड़ित है ,क्या आप जानते हैं यह बिमारियाँ कहाँ से आईं और हम इन बिमारियों से बच क्यों नहीं पाते | दोस्तो यह बिमारियाँ हमारे खाने पीने कि आदतों का ही नतीजा हैं |आधुनिक्ता कि दौड़ में हम शरीर को भूल चुके हैं ,जीभ के स्वाद के लिए हम हर कुछ ठूूँसते चले जाते हैं ,पैकेट बंद खाना,पानी और दूध सब हमें बहुत भाता है |पिज्जा के चटकारे,बर्गर का स्वाद और फिंगर चिप्स ,ठंडे पेय के साथ हमें अच्छे लगते हैं | दोस्तो अगर हम अपनी खाने कि आदत को बस बदल दें तो हर बिमारी से बचा जा सकता है ,यहाँ तक की किसी भी बिमारी को पलटा जा सकता है | तो दोस्तो आज मैं आप को सात्विक रोटी बनाने का तरीका बताने जा रही हूँ ,यह स्वाद के साथ साथ ,सेहत से भी भरपूर   है | सामग्री :  1.     गेहूँ का आटा (छिलके सहित) 2.      जौ का आटा  3.      निम्न में से कुछ भी           (a) पालक पयूरी            (b)टमाटर पयूरी           (c) गाजर का जूस           (d)  आलू पेस्ट            (e)  नारियल का दूध            (f)   बीन्स पेस्ट