Skip to main content

शिलाजीत क्या है और इसके क्या फायदे हैं | What is Shilajit and what are its benefits | Advantages and disadvantages of Shilajit

What is Shilajit and what are its benefits |   Advantages and disadvantages of Shilajit




 What is Shilajit?

According to Acharya Chark, there is no such disease on this earth which cannot be conquered by Shilajit. Shilajit is a dark brown sticky substance, which is bitter, astringent and hot. Shilajit smells like cow urine. It dissolves in water and does not dissolve in alcohol, chloroform and ether. It is mainly found in the Himalaya and Hindukush ranges, it is formed due to the decomposition of plants for thousands of years.


Benefits of eating Shilajit :-

1. Shilajit removes mental weakness.

2. Shilajit is useful in increasing immunity.

3. Shilajit is helpful in working diabetes.

4. Shilajit is useful in heart and blood related diseases.

5. Shilajit removes physical weakness.

6. Shilajit removes the deficiency of blood.


Disadvantages of eating Shilajit :-

1. Shilajit increases body heat.

2. Increases urination with Shilajit.

3. Excessive use of Shilajit can cause burning sensation in feet and hands.

 


शिलाजीत क्या है और इसके क्या फायदे हैं | शिलाजीत के फायदे और नुक्सान 


शिलाजीत क्या है :-

आचार्य चर्क के अनुसार इस धरा पर कोई ऐसी बिमारी  नहीं जिसे शिलाजीत से जीता नहीं जा सकता | शिलाजीत गहरे भूरे रंग का चिपचिपा पदार्थ है ,जो कड़वा , कसैला और उष्ण होता है | शिलाजीत कि  गंध गौमुत्र कि  तरह होती है |  यह जल में घुल जाता है और अल्कोहल , कलोरोफॉर्म और ईथर में नहीं घुलता | यह मुख्यत: हिमालय और हिन्दुकुश पर्वतमाला में प्रापत होता है , यह पौधों के हज़ारों बर्ष के विघटन के कारण बनता है  |


शिलाजीत खाने के फायदे :-

1.  शिलाजीत दिमागी कमजोरी को दूर करती है | 

2.  शिलाजीत इम्युनिटी को बढ़ाने में काम आती है | 

3.  शिलाजीत मधुमेह को कम करने में सहायक है | 

4.  शिलाजीत दिल और रक्त सम्बंधित बीमारियों में काम आती है | 

5.  शिलाजीत शारीरिक कमजोरी दूर करती है | 

6.  शिलाजीत रक्त कि  कमी को दूर करती है | 


शिलाजीत खाने के नुक्सान :-

1.  शिलाजीत शरीर की गर्मी को बढ़ाती है | 

2.  शिलाजीत से पेशाब को बढ़ाती है | 

3.  शिलाजीत के ज्यादा प्रयोग से पैरों  और हाथों में जलन महसूस हो सकती है | 


अन्य पढ़ें



 



Comments

Popular posts from this blog

योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा

  योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा  योगश्चित्तवृत्तिनिरोध: !!  चित कि वृत्तियों  को रोक लेना ही योग है !चित का मतलब है मन ! मन ही इच्छाओं का केंद्र है ! जब मन को अपने बस में कर लिया तो सब कुछ संभव  हो गया ! अपनी इच्छाओं को  वस में कर लेना ही योग है ! ठहरे हुए पानी में अपना प्रतिबिम्ब देखा जा सकता है पर अगर पानी में तरंगे उठती रहें तो प्रतिबिम्ब देखना मुश्किल होगा ! अपने आप को जान लेना ही योग है और   तभी  संभव होगा जब में  ठहराव होगा होगा ! आज की यह मुद्रा   ज्ञान मुद्रा  हाथों कि मुद्राओं से कई तरह की बीमारियों का इलाज  किया जा सकता है ! याद रखें  की जब कोइ भी मुद्रा  आप कर रहे हों उस में उपयोग में ना होने बाली उंगलियों को सीधा रखें  ! विधी        इस मुद्रा में अपने अंगूठे के अग्रभाग को अपनी तर्जनी उंगली के अग्रभाग से मिलाकर रखें  ! शेष तीनो उंगलियों को सीधा रखें ! हाथों  को अपने घुटनों  पर रखें  और साथ में अपनी हथेलियों को आकाश की तरफ खोल दें ! महत्त्व       अंगूठा  अग्नि तत्व का और तर्जनी उंगली वायु  तत्व का प्रतीक है !  ज्योतिष के अनुसार अंगूठा मंगल ग्रह  और तर्जनी उंगली

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan Name : Naag Chhatri Botanical Name : Trillium Govanianum Identification   : Approx 10cm purple red stem carry three green leaves and flower of deep red and green colour.  Uses : Anticancerous,In sexual problems, regulation of menstrual cycle and stomach related problems.    नाम : नाग छतरी वानस्पतिक नाम : ट्रिलियम गोवैनियनम पहचान : लगभग 15 सेंमी का  लाल बैंगनी और पतला सा तना, तने के ऊपर तीन हरे पत्ते और लाल तथा हरे रंग का फूल | प्रयोग : कैंसर,सेक्स समस्याएं,मासिक चक्र मेंं नियंत्रण, पेट  कि  समस्या मेें | अन्य पढ़ें    सबसे महंगी कॉफी  जट्रोफा के फायदे  रतनजोत  फायदे  पथरी का रामवाण ईलाज़ 

How to make Satvik Roti || Recipe to make Healthy Roti || सात्विक रोटी बनाने का तरीका

सात्विक रोटी बनाने का तरीका ||हैलदी रोटी बनाने कि रैसिपी दोस्तो आज हम में से हर कोई किसी न किसी बिमारी से पीड़ित है ,क्या आप जानते हैं यह बिमारियाँ कहाँ से आईं और हम इन बिमारियों से बच क्यों नहीं पाते | दोस्तो यह बिमारियाँ हमारे खाने पीने कि आदतों का ही नतीजा हैं |आधुनिक्ता कि दौड़ में हम शरीर को भूल चुके हैं ,जीभ के स्वाद के लिए हम हर कुछ ठूूँसते चले जाते हैं ,पैकेट बंद खाना,पानी और दूध सब हमें बहुत भाता है |पिज्जा के चटकारे,बर्गर का स्वाद और फिंगर चिप्स ,ठंडे पेय के साथ हमें अच्छे लगते हैं | दोस्तो अगर हम अपनी खाने कि आदत को बस बदल दें तो हर बिमारी से बचा जा सकता है ,यहाँ तक की किसी भी बिमारी को पलटा जा सकता है | तो दोस्तो आज मैं आप को सात्विक रोटी बनाने का तरीका बताने जा रही हूँ ,यह स्वाद के साथ साथ ,सेहत से भी भरपूर   है | सामग्री :  1.     गेहूँ का आटा (छिलके सहित) 2.      जौ का आटा  3.      निम्न में से कुछ भी           (a) पालक पयूरी            (b)टमाटर पयूरी           (c) गाजर का जूस           (d)  आलू पेस्ट            (e)  नारियल का दूध            (f)   बीन्स पेस्ट