Skip to main content

Why Red Sandalwood so expenssive | Red Sandalwood,Uses, Benefits and Much More

 Why Red Sandalwood so expensive | Red Sandalwood,Uses, Benefits and Much More



Botonical Name : Pterocarpus santalinus

Common Name :  Red Sanders, Red Saunders,Yerra Chandanam,Red Sandalwood, Rakta Chanddana

Recognisation

1. Red Sandalwood has no fragrance.

2. The height of tree is 5-8 mtrs.

3.  Leaves of Red Sandalwood are 3-9 cm long.

Uses :

1. Red Sandalwood is used to make furniture.

2. Red Sandalwood is used to make musical instruments.

3. Red Sandalwood has antipyretic and anti inflammatory properties.

4. Red Sandalwood is used during worship.

5. Red Sandalwood is blood purifier.

6. Red Sandalwood has anti cancerous property.

7. Red Sandalwood is used as flavouring agent in alcoholic beverages.

8. Red Sandalwood is used for skin problems.


Why Red Sandalwood is so expensive


1.Red Sandalwood is so expensive because of high demand and short supply.

2. It takes approx 30 years for heartwood of tree to grow.

3. India only grows 90% of world's Red Sandalwood.

4. Red Sandalwood can only be found in southern states of India.


लाल चंदन इतना महंगा क्यों है | लाल चंदन, उपयोग, लाभ और भी बहुत कुछ

 

वानस्पतिक नाम: पटरोकार्पस सैंटालिनस 

सामान्य नाम: रेड सैंडर्स, रेड सॉन्डर्स, येरा चंदनम, रेड सैंडलवुड, रक्ता चंदना 

पहचान

1. लाल चंदन की कोई सुगंध नहीं होती है। 

2. पेड़ की ऊंचाई 5-8 मीटर है। 

3. लाल चंदन के पत्ते 3-9 सेंटीमीटर लंबे होते हैं। 

उपयोग

1. लाल चंदन का उपयोग फर्नीचर बनाने के लिए किया जाता है। 

2. संगीत वाद्ययंत्र बनाने के लिए लाल चंदन का उपयोग किया जाता है। 

3. लाल चंदन में ज्वरनाशक और सूजन रोधी गुण होते हैं। 4. पूजा में लाल चंदन का प्रयोग किया जाता है। 

5. लाल चंदन रक्त शोधक है। 

6. लाल चंदन में कैंसर रोधी गुण होते हैं। 

7. लाल चंदन का उपयोग मादक पेय पदार्थों में स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है।

 8. लाल चंदन का प्रयोग त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए किया जाता है। 

लाल चंदन इतना महंगा क्यों है 

1. उच्च मांग और कम आपूर्ति के कारण लाल चंदन इतना महंगा है। 

2. पेड़ के हर्टवुड को विकसित होने में लगभग 30 वर्ष लगते हैं। 

3. भारत दुनिया के लाल चंदन का केवल 90% उत्पादन करता है। 

4. लाल चंदन केवल भारत के दक्षिणी राज्यों में पाया जा सकता है।


अन्य पढ़ें

Comments

Popular posts from this blog

योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा

  योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा  योगश्चित्तवृत्तिनिरोध: !!  चित कि वृत्तियों  को रोक लेना ही योग है !चित का मतलब है मन ! मन ही इच्छाओं का केंद्र है ! जब मन को अपने बस में कर लिया तो सब कुछ संभव  हो गया ! अपनी इच्छाओं को  वस में कर लेना ही योग है ! ठहरे हुए पानी में अपना प्रतिबिम्ब देखा जा सकता है पर अगर पानी में तरंगे उठती रहें तो प्रतिबिम्ब देखना मुश्किल होगा ! अपने आप को जान लेना ही योग है और   तभी  संभव होगा जब में  ठहराव होगा होगा ! आज की यह मुद्रा   ज्ञान मुद्रा  हाथों कि मुद्राओं से कई तरह की बीमारियों का इलाज  किया जा सकता है ! याद रखें  की जब कोइ भी मुद्रा  आप कर रहे हों उस में उपयोग में ना होने बाली उंगलियों को सीधा रखें  ! विधी        इस मुद्रा में अपने अंगूठे के अग्रभाग को अपनी तर्जनी उंगली के अग्रभाग से मिलाकर रखें  ! शेष तीनो उंगलियों को सीधा रखें ! हाथों  को अपने घुटनों  पर रखें  और साथ में अपनी हथेलियों को आकाश की तरफ खोल दें ! महत्त्व       अंगूठा  अग्नि तत्व का और तर्जनी उंगली वायु  तत्व का प्रतीक है !  ज्योतिष के अनुसार अंगूठा मंगल ग्रह  और तर्जनी उंगली

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan Name : Naag Chhatri Botanical Name : Trillium Govanianum Identification   : Approx 10cm purple red stem carry three green leaves and flower of deep red and green colour.  Uses : Anticancerous,In sexual problems, regulation of menstrual cycle and stomach related problems.    नाम : नाग छतरी वानस्पतिक नाम : ट्रिलियम गोवैनियनम पहचान : लगभग 15 सेंमी का  लाल बैंगनी और पतला सा तना, तने के ऊपर तीन हरे पत्ते और लाल तथा हरे रंग का फूल | प्रयोग : कैंसर,सेक्स समस्याएं,मासिक चक्र मेंं नियंत्रण, पेट  कि  समस्या मेें | अन्य पढ़ें    सबसे महंगी कॉफी  जट्रोफा के फायदे  रतनजोत  फायदे  पथरी का रामवाण ईलाज़ 

How to make Satvik Roti || Recipe to make Healthy Roti || सात्विक रोटी बनाने का तरीका

सात्विक रोटी बनाने का तरीका ||हैलदी रोटी बनाने कि रैसिपी दोस्तो आज हम में से हर कोई किसी न किसी बिमारी से पीड़ित है ,क्या आप जानते हैं यह बिमारियाँ कहाँ से आईं और हम इन बिमारियों से बच क्यों नहीं पाते | दोस्तो यह बिमारियाँ हमारे खाने पीने कि आदतों का ही नतीजा हैं |आधुनिक्ता कि दौड़ में हम शरीर को भूल चुके हैं ,जीभ के स्वाद के लिए हम हर कुछ ठूूँसते चले जाते हैं ,पैकेट बंद खाना,पानी और दूध सब हमें बहुत भाता है |पिज्जा के चटकारे,बर्गर का स्वाद और फिंगर चिप्स ,ठंडे पेय के साथ हमें अच्छे लगते हैं | दोस्तो अगर हम अपनी खाने कि आदत को बस बदल दें तो हर बिमारी से बचा जा सकता है ,यहाँ तक की किसी भी बिमारी को पलटा जा सकता है | तो दोस्तो आज मैं आप को सात्विक रोटी बनाने का तरीका बताने जा रही हूँ ,यह स्वाद के साथ साथ ,सेहत से भी भरपूर   है | सामग्री :  1.     गेहूँ का आटा (छिलके सहित) 2.      जौ का आटा  3.      निम्न में से कुछ भी           (a) पालक पयूरी            (b)टमाटर पयूरी           (c) गाजर का जूस           (d)  आलू पेस्ट            (e)  नारियल का दूध            (f)   बीन्स पेस्ट