Skip to main content

Yoga Poses To Get Rid Of Diseases | वारिसार द्यौति

 Yoga Poses To Get Rid Of Diseases | वारिसार द्यौति



वारिसार द्यौति करने कि प्रक्रिया


1. उकड़ू होकर बैठें |

2. धीरे-धीरे पानी के तीन गिलास पी  जाएँ | 

3. ताड़ायन,बज्रासन,भुजंगासन आदि तीन आयन करें |

4. शौच लगने पर निवृत होकर आएँ |

5. यह प्रकृिया तब तक दोहराएँ जब तक मलद्वार से पानी जैसे का तैसा ना निकलने लगे |


वारिसार द्यौति करते समय सावधानियाँ


1. इसे साल में दो या तीन बार ही करें |

2. वारिसार द्यौति का अभ्यास करने से दो-तीन दिन पहले से हलका भोजन करना शुरू कर दें |

3. वारिसार द्यौति करने से पहले पेट को अच्छी तरह से साफ कर लें |

4. ढीले कपड़े पहनें |

5. गुनगुने जल का प्रयोग करें |

6. जल में नींबू और सेंधा नमक का प्रयोग भी कर सकते हैं |

7. किसी योगगुरू कि देखरेख में ही वारिसार द्यौति कि प्रकृिया को करें |

8. अभ्यास के बाद शरीर को पूर्ण विश्राम देना चाहिए

9. गर्भवती महिलाओं को   वारिसार द्यौति का अभ्यास नहीं करना चाहिए वरना गर्भपात हो सकता है | 

10. वारिसार द्यौति का अभ्यास करने के बाद रसाहार या फलाहार का सेवन अगले 24 घंटे तक करना उचित रहता है|


वारिसार द्यौति के फायदे 


1. शरीर से विषैले पदार्थ निकल जाते हैं |

2. चेहरे पर चमक आती है |

3. शरीर संतुलित होता है |

4. इससे हमारी आहार नली, आंते, पेट की संपूर्ण सफाई हो जाती है।

5. चर्म रोगों में पित्त का शमन होने से अत्यंत शीघ्र लाभदायक साबित होता है |


Yoga Poses To Get Rid Of Disease| Warisar Dyauti 


Process of doing Warisar Dyauti


1. Sit crouched down. 

2. Slowly drink three glasses of water. 

3. Do three yoga poses like Tadasana, Bajrasana, Bhujangasana etc. 

4. Come retired after defecation. 

5. Repeat this process until the water starts coming out of the anus. 


Precautions while performing Warisar Dyauti


1. Do this only twice or thrice a year. 

2. Start eating light food two-three days before doing the practice of Varisar Dyauti. 

3. Clean the stomach thoroughly before performing the varisar dyauti.

4. Wear loose clothing. 

5. Use lukewarm water. 

6. Lemon and rock salt can also be used in water. 

7. This procesd should be done under the supervision of a yoga expert. 

8. The body should be given complete rest after the exercise. 

9. Pregnant women should not practice Varisara Dyauti or else there may be miscarriage. 

10. After practicing Varisar Dyauti, it is advisable to consume Rasahar or Fruits for the next 24 hours.


Benefits of Warisar Dyauti

 

1. Toxic substances are removed from the body. 

2. There is a glow on the face. 

3. The body is balanced. 

4. Due to this, our alimentary canal, intestine, stomach gets completely cleaned. 

5. The suppression of bile in skin diseases proves to be very beneficial very soon.


अन्य पढ़ें 

 


Comments

Popular posts from this blog

योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा

  योग का अर्थ || Yoga Kya Hai || ज्ञान मुद्रा  योगश्चित्तवृत्तिनिरोध: !!  चित कि वृत्तियों  को रोक लेना ही योग है !चित का मतलब है मन ! मन ही इच्छाओं का केंद्र है ! जब मन को अपने बस में कर लिया तो सब कुछ संभव  हो गया ! अपनी इच्छाओं को  वस में कर लेना ही योग है ! ठहरे हुए पानी में अपना प्रतिबिम्ब देखा जा सकता है पर अगर पानी में तरंगे उठती रहें तो प्रतिबिम्ब देखना मुश्किल होगा ! अपने आप को जान लेना ही योग है और   तभी  संभव होगा जब में  ठहराव होगा होगा ! आज की यह मुद्रा   ज्ञान मुद्रा  हाथों कि मुद्राओं से कई तरह की बीमारियों का इलाज  किया जा सकता है ! याद रखें  की जब कोइ भी मुद्रा  आप कर रहे हों उस में उपयोग में ना होने बाली उंगलियों को सीधा रखें  ! विधी        इस मुद्रा में अपने अंगूठे के अग्रभाग को अपनी तर्जनी उंगली के अग्रभाग से मिलाकर रखें  ! शेष तीनो उंगलियों को सीधा रखें ! हाथों  को अपने घुटनों  पर रखें  और साथ में अपनी हथेलियों को आकाश की तरफ खोल दें ! महत्त्व       अंगूठा  अग्नि तत्व का और तर्जनी उंगली वायु  तत्व का प्रतीक है !  ज्योतिष के अनुसार अंगूठा मंगल ग्रह  और तर्जनी उंगली

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan

Naag Chhatri Ke Faayade || Naag Chhatri Ke Labh || Naag Chhatri Ki Pahchaan Name : Naag Chhatri Botanical Name : Trillium Govanianum Identification   : Approx 10cm purple red stem carry three green leaves and flower of deep red and green colour.  Uses : Anticancerous,In sexual problems, regulation of menstrual cycle and stomach related problems.    नाम : नाग छतरी वानस्पतिक नाम : ट्रिलियम गोवैनियनम पहचान : लगभग 15 सेंमी का  लाल बैंगनी और पतला सा तना, तने के ऊपर तीन हरे पत्ते और लाल तथा हरे रंग का फूल | प्रयोग : कैंसर,सेक्स समस्याएं,मासिक चक्र मेंं नियंत्रण, पेट  कि  समस्या मेें | अन्य पढ़ें    सबसे महंगी कॉफी  जट्रोफा के फायदे  रतनजोत  फायदे  पथरी का रामवाण ईलाज़ 

How to make Satvik Roti || Recipe to make Healthy Roti || सात्विक रोटी बनाने का तरीका

सात्विक रोटी बनाने का तरीका ||हैलदी रोटी बनाने कि रैसिपी दोस्तो आज हम में से हर कोई किसी न किसी बिमारी से पीड़ित है ,क्या आप जानते हैं यह बिमारियाँ कहाँ से आईं और हम इन बिमारियों से बच क्यों नहीं पाते | दोस्तो यह बिमारियाँ हमारे खाने पीने कि आदतों का ही नतीजा हैं |आधुनिक्ता कि दौड़ में हम शरीर को भूल चुके हैं ,जीभ के स्वाद के लिए हम हर कुछ ठूूँसते चले जाते हैं ,पैकेट बंद खाना,पानी और दूध सब हमें बहुत भाता है |पिज्जा के चटकारे,बर्गर का स्वाद और फिंगर चिप्स ,ठंडे पेय के साथ हमें अच्छे लगते हैं | दोस्तो अगर हम अपनी खाने कि आदत को बस बदल दें तो हर बिमारी से बचा जा सकता है ,यहाँ तक की किसी भी बिमारी को पलटा जा सकता है | तो दोस्तो आज मैं आप को सात्विक रोटी बनाने का तरीका बताने जा रही हूँ ,यह स्वाद के साथ साथ ,सेहत से भी भरपूर   है | सामग्री :  1.     गेहूँ का आटा (छिलके सहित) 2.      जौ का आटा  3.      निम्न में से कुछ भी           (a) पालक पयूरी            (b)टमाटर पयूरी           (c) गाजर का जूस           (d)  आलू पेस्ट            (e)  नारियल का दूध            (f)   बीन्स पेस्ट